रविवार, 22 अप्रैल 2018

शहर में एक नई आर्ट गैलरी की शुरुआत


शहर में एक नई आर्ट गैलरी की शुरुआत
आई आई एस विश्वविद्यालय की पहल
मूमल नेटवर्क, जयपुर। दि आई आई एस डीम्ड टू बी विश्वविद्यालय एवं विज़ुअल आट्र्स विभाग के प्रयासों से विश्वविद्यालय परिसर में आदित्य आर्ट गैलरी स्थापित की गई जिसका उद्घाटन कल शनिवार 21 अप्रेल को चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के सेक्रेटरी जनरल अजय काला ने किया। उद्घाटन के अवसर पर विश्वविद्यालय फैकल्टीज़ द्वारा तैयार कलाकृतियों की प्रदर्शनी लगाई गई।
विज़ुअल आट्र्स विभाग के व्याख्याता श्वेत गोयल ने गैलेरी की स्थापना के बारे में कहा कि इस आर्ट गैलरी की शुरूआत हमनें अपने काम को प्रदर्शित करने के साथ की है क्योंकि फैकल्टी होने के साथ-साथ हम भी एक कलाकार है और हम चाहेंगे कि बच्चे हमारे काम को देखकर उनसे प्रेरणा लें।
उन्होने कहा कि इस आर्ट गैलरी को स्थापित करने का मकसद आने वाले समय में सीनियर आर्टिस्ट्स को आर्ट एक्जि़बीशन लगाने के लिए आमंत्रित करना है ताकि वो विभाग के स्टूडेंट्स का मार्गदर्शन कर सकें।
प्रदर्शनी में फैकल्टीज़ ने विभिन्न रंगों व स्ट्रोक्स के ज़रिए अपनी भावनाएं व्यक्त करने के साथ अपनी विशेषज्ञता को प्रदर्शित करने की कोशिश की है। प्रदर्शनी में लगभग 62 कलाकृतियां प्रदर्शित की गई हैं। कलाकारों के लिए यह प्रदर्शनी 27 अप्रैल तक खुली रहेगी।

प्रिंट बैनाले में सर्वश्रेष्ठ 5 कलाकारों को मिला अवार्ड

प्रिंट बैनाले में सर्वश्रेष्ठ 5 कलाकारों को मिला अवार्ड
मूमल नेटवर्क, नई दिल्ली। ललित कला अकादमी आयोजित प्रथम प्रिंट बैनाले में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए 5 कलाकारों को 2-2 लाख रुपए के नकद अवार्ड से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर आठ अन्य कलाकारों को भी श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया।  यह सम्मान समारोह रवीन्द्र भवन में 20 अप्रेल को आयोजित किया गया।
समारोह के मुख्य अतिथि संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा किसी कारण से समारोह में शामिल नहीं हो सके। उनके द्वारा भेजे गए शुभकामना संदेश को डॉ पॉल सेन गुप्ता ने पढ़कर सुनाया। समारोह की विशिष्ट अतिथि संस्कृति मंत्रालय की अपर सचिव सुजाता ने बेहतरीन आयोजन के लि अकादमी को बधाई व सम्मानित हुए कलाकारों के साथ सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएं दीं। इस अवसर पर अकादमी अध्यक्ष एम.एल. श्रीवास्तव मौजूद थे। अध्यक्ष ने अपने उद्बोधन में तत्कालीन प्रशासक सी. एस. कृष्णा शेट्टी सहित समिति सदस्यों को धन्यवाद व प्रतिभागियों को शुभकामनाएं दी। उल्लेखनीय है कि सी.एस. कृष्णा शेट्टी के कार्यकाल में ही अन्तर्राष्ट्रीय कला मेले व प्रथम प्रिंट बैनाले की योजना बनी थी। शेट्टी के प्रशासक रहते ही बैनाले की शुरुआत हुई थी।
बैनाले के लिए अकादमी को 415 प्रिंटमेकर्स जिनमें 364 भारतीय व 51 विदेशी प्रिंटमेकर्स शामिल थे द्वारा 1126 प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं जिनमें से केवल 177 प्रिंट्स को ही बैनाले में प्रदर्शन के लिए चुना गया।
इन्हें मिला अवार्ड
सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए ज्यूरी ने पांच कलाकारों का चुनाव किया। इन्हें 2-2 लाख रुपए के नकद अवार्ड के साथ मेडालियन व प्रमाण पत्र से सममानित किया गया। यह सम्मान आंध्र प्रदेश के अरूप कुमार कुइटी एवं सत्यनारायण गवरा, उत्तर प्रदेश की प्रेया भगत एवं सोनल वाष्र्णेय तथा गुजरात की पूर्वी परमार को दिया गया।


इनका रहा श्रेष्ठ प्रदर्शन
अपने श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए आठ अन्य कलाकारों का उल्लेख किया गया। इन कलाकारों में बांग्ला देश की उर्मी रॉय नेपाल की सीमा शर्मा व उमा शंकर शाह, लिथुआनिया के यूनै जिलायते तथा भारत के जगदीश तामिनेनी, श्रीनिवास पुलागम, अरुण कुमार मौर्य एवं श्रीपद अमृत गुरव के नाम शामिल हैं।

मंगलवार, 17 अप्रैल 2018

स्व. देवकीनंदन शर्मा की कृतियों से आबाद हुई अकादमी दीर्घा

स्व. देवकीनंदन शर्मा की कृतियों से आबाद हुई अकादमी दीर्घा
मूमल नेटवर्क, जयपुर। कल शाम ललित कला अकादमी दीर्घा में स्व. देवकीनंदन शर्मा की कलाकृतियों को प्रदर्शित किया गया। यह प्रदर्शनी अकादमी द्वारा दिवंगत कलाकारों की कृतियों को प्रदर्शित करने की योजना के तहत लगाई गई है।
स्व. देवकीनंदन शर्मा के बेटे व पूर्व अकादमी अध्यक्ष प्रो. भवानी शंकर शर्मा द्वारा संग्रहित करीब 75 कलाकृतियों में देवकीनन्दन शर्मा द्वारा बनाई गई 1935 से लेकर 2005 तक की कृतियां शामिल हैं। कलाकृतियों में फ्रेस्को, टेम्परा, वॉश टेक्निक के साथ वॉटर कलर और ड्राइंग के कई पैटर्न देखने को मिल रहे हैं। मोर व मोरपंखों के सूक्ष्म चित्रांकन के लिए ख्याति पाने वाले इस कलाकार की कृतियों में प्रकृति के कई रंगों से साखात्कार किया जा सकता है। यह प्रदश्रनी 26 अप्रेल तक चलेगी।

इंतजार खत्म, शुरू हुई पहली आर्ट रेजिडेंसी

इंतजार खत्म, शुरू हुई पहली आर्ट रेजिडेंसी
मूमल नेटवर्क, चंडीगढ़। एक लंबे इंतजार के बाद आखिरकार शहर की पहली आर्ट रेजिडेंसी कल मंगलवार 17 अप्रेल को शुरू हुई। ली कार्बुजिए सेटर-19 में शुरु हुई आर्ट रेजिडेंसी का उद्घाटन पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर ने किया। इस अवसर पर आर्ट रेजिडेंसी को दिल्ली की आर्टिस्ट आरती जावेरी के आर्ट वर्क मिरर द आई को इंस्टॉल किया गया। इसके साथ गवर्नमेंट आर्ट कॉलेज-10 के स्टूडेट्स के कई आर्ट पीस सजाए गए हैं।  उद़घाटन समारोह में कई वरिष्ठ कलाकार उपस्थित थे। पिछले कई हफ्तों से तैयार रेजिडेंसी को राज्यपाल की व्यस्तता के चलते उद्घाटन का इंतजार करना पड़ा था।
कार्बूजिए सेटर का आधा हिस्सा रेजिडेंसी को
कार्बुजिए सेटर की आधी जगह रेजिडेंसी को दी जाएगी। इसमें रिसर्च सेटर, मीटिंग रूम और आर्ट रेजिडेंसी को बनाया जा रहा है। आर्ट रेजीडेसी में कुल 10 कमरे होंगे, जिसके पीछे एक छोटा लॉन और एक तरफ कैंटीन बनाई जाएगी। जहां कलाकार आकर बैठ सकेंगे।
80 प्रतिशत स्थानीय व 20 प्रतिशत राष्ट्रीय कलाकारों को मिलेगा स्पेस
चंडीगढ़ ललित कला अकादमी के चेयरमैन भीम मल्होत्रा ने कहा कि अकादमी इस रेजिडेंसी में ज्यादा से ज्यादा लोकल कलाकारों को जगह देगी। इसके लिए 80 प्रतिशत जगह स्थानीय कलाकारों को और 20 प्रतिशत जगह राष्ट्रीय कलाकारों को दी जाएगी। इसके लिए एक कमेटी का गठन होगा, जो स्थानीय कलाकारों के आवेदन का चयन करेगी और उन्हें ही यहां जगह दी जाएगी। रेजिडेंसी के लिए 100 रुपये प्रति दिन का किराया रखा जाएगा। इसे कलाकार 15 दिन, 30 दिन और 60 दिन के लिए ले सकेंगे।
प्रिंट मेकिंग और स्कल्प्चर की मशीने लगाईं
आर्ट रेजिडेंसी में कलाकारों के लिए स्पेस से लेकर फर्नीचर, कला से जुड़े विभिन्न टूल्स, एसी, फ्रिज और सुरक्षा व्यवस्था भी उपलब्ध करवाई गई है। ऐसे में स्कल्प्चर और प्रिंट मेकिंग जैसी जटिल कला से जुड़े कलाकारों के लिए सबसे ज्यादा फायदा होगा, जिन्हें अपना आर्ट वर्क तैयार करने के लिए अपना स्टूडियो ही बनाना पड़ता था, या जगह किराए पर लेनी पड़ती थी। रेजिडेंसी में प्रिंट मेकिंग से जुड़ी ऐचिंग प्रेस, एक्वाटिंट डस्ट बॉक्स, लीथोग्राफी हीटर से जुड़ी मशीन भी लगाई गई है।
रॉक गार्डन फेज-3 में भी बनेगी रेजिडेंसी
भीम मल्होत्रा ने कहा कि रेजिडेंसी के लिए रॉक गार्डन की जगह भी देखी जा रही है। इसके लिए फेज-3 में दो जगह देखी गई हैं, इसमें से एक जगह पसंद की गई है और जल्द ही वहां विकास कार्य शुरू हो जाएगा। इस महीने के अंत तक इसका उद्घाटन हो जाएगा।

बच्चों ने सीखा ब्लू पॉटरी व ब्लॉक व प्रिंटिंग का हुनर

बच्चों ने सीखा ब्लू पॉटरी व ब्लॉक व प्रिंटिंग का हुनर
मूमल नेटवर्क, जयपुर। इंडिया इंटरनेशनल स्कूल के ग्यारहवीं तथा बारहवीं कक्षा के बच्चों ने ब्लू पॉटरी व ब्लॉक व प्रिंटिंग का हुनर सीखने की कोशिश की। संस्था विज़ुअल आट्र्स के स्टूडेंट्स को ब्लू पॉट्री एंड ब्लॉक प्रिंटिंग फैक्ट्री के भ्रमण पर ले गई थी।
इस भ्रमण के दौरान बच्चों को ब्लॉक प्रिंटिंग के ज़रिए बैडशीट तैयार करने की कला सीखी। साथ ही उन्होंने ब्लू पॉट्री से तैयार किए जाने वाले बर्तनों में काम आने वाली तकनीक जैसे कास्टिंग, बेकिंग, पेंटिंग व ग्लेज़ को बहुत ही रुचि के साथ समझा। इस दौरान बच्चों को इन कलाओं से जुड़े इतिहास से भी परिचित करवाया गया।

रविवार, 15 अप्रैल 2018

राष्ट्रीय प्रिंट मेकिंग कार्यशाला

राष्ट्रीय प्रिंट मेकिंग कार्यशाला
राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित कलाकार भी हैं प्रतिभागी
मूमल नेटवर्कद्व नई दिल्ली। ललित कला अकादमी आयोजित प्रथम प्रिंट मेकिंग बैनाले के तहत प्रिंट मेकिंग कार्यशाला का आयोजन किया गया है। कार्यशाला का उद्घाटन विख्यात प्रिंटमेकर अपर्णा कौर और अकादमी अध्यक्ष एम.एल. श्रीवास्तव की उपस्थिति में 11 अप्रेल को किया गया। 19 अप्रेल तक चलने वाली इस कार्यशाला में 12 कलाकार भाग ले रहे हैं जिनमें राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित कलाकार भी शामिल हैं। कैम्प के समापन पर तैयार कृतियां गढ़ी स्टूडियो में प्रदर्शित की जाएंगी।
प्रिंट मेकिंग कैम्प के आयोजन के प्रति उत्साह व खुशी व्यक्त करते हुए अपर्णा कौर ने कहा कि, मैं मूल रूप से एक पेन्टर हॅं लेकिन सन् 1980 में अचानक ही प्रिंटमेकिंग के क्ष्ेत्र में आ गई। उन्होनें सभी प्रतिभागियों को बधाई दी।
अकादमी  अध्यक्ष एम.एल. श्रीवास्तव ने कहा कि 1950 के दशक तक प्रिंट मेकिंग दृश्य कला की अन्य विद्याओं जितना लोकप्रिय नहीं था। लेकिन 80 का दशक आते-आते इसे व्यापक प्रसिद्धि मिली। हमें बैनाले के लिए राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अच्छी प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं।
कैम्प में प्रतिभागी छापाकला की विभिन्न तकनीकों यथा लिथोग्राफी, इंटेगलियो, रिलीफ प्रिंटिंग और सिल्क स्क्रीन का प्रयोग करते हुए कृतियां बनाएंगे।
कैम्प के प्रतिभागी
नई दिल्ली से राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता चेरिंग नेगी, छत्तीसगढ़ से रवि नारायण गुप्ता, पश्चिम बंगाल से ज्योतिर्मय दलपति, गुजरात से एल. राजा, विभूति शर्मा एवं मारिपेली प्रवीण गौड़, तामिलनाडू से विजय पिचुमनि, महाराष्ट्र से श्रीनिवास गोविन्दराव मेहरात्रे व सचिन रामाराव हजारे, उत्तर प्रदेश से राजेश कुमार सिंह, बैंगलूर से डिम्पल बी. शाह तथा दिल्ली से असीम पाल।

शिव कला आर्ट कैंप आज से

शिव कला आर्ट कैंप 
चित्तौडग़ढ़ आर्ट सोसायटी का विश्व कला दिवस पर आयोजन
मूमल नेटवर्क, चित्तौडग़ढ़।
चित्तौडग़ढ़ आर्ट सोसायटी की ओर से विश्व कला दिवस के अवसर पर शिव कला आर्ट कैंप का आयोजन किया गया है। 14 से 16 अप्रैल तक यह कैम्प सांवलियाजी विश्रांति गृह में हो रहा है। इसमें विभिन्न राज्यों के 30 कलाकार भाग ले रहे हैं। सभी कलाकार भगवान शिव को केन्द्र में रखते हुए कला रचना करेंगे।
कैम्प का उदघाटन कल सुबह सुबह 11 बजे हुआ। सचिव मुकेश शर्मा ने बताया कि दक्षिणी राजस्थान प्रादेशिक माहेश्वरी युवा संगठन एवं जिला माहेश्वरी युवा संगठन के संयुक्त तत्वावधान से कला शिविर में शिव कला कार्य किया जाएगा। राष्ट्रीय स्तर के 30 कलाकारों के साथ स्थानीय कलाकार शिरकत करेंगे। क्यूरेटर चित्रा बांगड़ के अनुसार इस पहल से कला का प्रचार-प्रसार होगा। कार्यक्रम के सह-संयोजक नरोत्तम हेड़ा ने बताया कि कैम्प में तैयार कृतियों की प्रर्दशनी 16 अप्रैल को लगाई जाएगी।
यह हैं कैम्प के प्रतिभागी
उड़ीसा से प्रदीप्ता किशोरदास, मेरठ से डॉ. प्रिंस राज, गुडग़ांव से दीपक, गोरखपुर से सुष्मिता, शिप्रा, मुंबई से पल्लवी, बड़ौदा से अप्पला राजू, पीनल पांचाल, अजमेर से सचिन साखलकर, जोधपुर से जयराजसिंह राठौड़, रूपककुमार, बालोतरा बाड़मेर देबाबत्र डे, उदयपुर से डिंपल, राहुल माली, बांसवाड़ा से सुमन जोशी, बूंदी से सुनील जांगिड़, भीलवाड़ा से एसएन सोनी, महेश, बबिता के साथ ही चित्तौडग़ढ़ आर्ट सोसायटी के लक्ष्मीनारायण वर्मा, दिलीप जोशी, प्रतिभा यादव, दीपिका शर्मा, गौरव शर्मा, यामिनी वर्मा, सत्येश, सुमित शर्मा भाग लेंगे।